प्राउड टू बी देसी Proud To Be Desi Hindi Lyrics: Khan Bhaini

Proud To Be Desi Hindi lyrics is a Punjabi song sung by Khan Bhaini and Fateh Doe (Rap). Lyrics for this song are also penned by Khan Bhaini and Fateh Doe. Music is composed by Syco Style.

Proud-To-Be-Desi-Hindi-Lyrics-Khan-Bhaini

Song TitleProud To Be Desi
SingerKhan Bhaini, Fateh Doe (Rap)
LyricsKhan Bhaini, Fateh Doe (Rap)
MusicSyco Style
DirectorMahi Sandhu, Joban Sandhu
Music LabelSpeed Records

 

प्राउड टू बी देसी Proud To Be Desi Hindi Lyrics


येह येह
फटेहडो

साइको स्टाइल

ऐंड वि प्राउड टू बी देसी
लेट्स गो!

हो होया की जे पिंडा
वाले देसी वजदे

मान वाली गल होना
देसी बलिए
हो मूड मट्ट दिलां

देयाँ रजे कूड़े जट्ट
बस थोड़े जेहे
सुबह दे आं कलेशी बलिए

जे तू भैनी वाला सुन ना
तां सुनी रीजां लाके

तैनु दस्सूगा डिटेल विच
बिल्लो जट्ट गा के

तेरे शहर दी मंदिर
फॉलो करदी स्वैग सड्डा
कुर्ते पजामे नाल खेसी बलिए

हो होया की जे पिंडा
वाले देसी वजदे

मान वाली गल होना
देसी बलिए

हो रख सांभ के
रकने तेरी कैडिलैक नू

तैनु गल समझावां
मोटी मोटी नखरों

हो बिल्लो साडे मैसी
सवराजन करके

कारण आलेया दी पाक दी
ए रोटी नखरों

ऐवें सोची ना रकने
गल करदा मैं लाके

तैनु होना नी यकीन
पूछी पापा जी नू जाके

किथों औंदिया जो खांदी
भून भून छल्लियां

खेत साढ़े ही
उगौंदे ना विदेशी बलिए

हो होया की जे पिंडा
वाले देसी वजदे

मान वाली गल होना
देसी बलिए

आह ओके!

तेरे करके मैं आया
कोज तू लग्दी बड़ी फायर गर्ल

जे तू कोलों लंगदी
मुंडे हुंदे इंस्पायर गर्ल

पता तू शहर दी कूड़ी
लाड़ली डैड दी कुड़ी

पिण्ड तू आके देख
दुपट्टा तू पाकें देख

कोठे ते मंजा लेह दाह
मां दी हाथ दी खा

मक्की दी रोटी नाल चाह
फोन तो लैला तू साह

यारां नाल मोटर ते मैं
आजा तू फोर्ड ते बैह

सानू नी चाही दा
Gucci एहनू तू मोड़ दे तैं

काले कुर्ते पाए
दुनाली एत्ते पाई लोई

देसी जेहे बन्दे ते
सुबह वि साडा ओहि

आह अदब हैगा आं इंसान
पिण्ड ते सानू ए मान

फतेह आ फतेह आ
फतेह आ
नाल भैनी आला खान

हो चल्ले एह तां साडी
पक्की आइडेंटिटी नखरों

साडा खाना पीना
साडा पहरावा बलिए

तेरे डैडी जी दा रैक
उथे करदा नी काम

काम करदा मंजे दा
जीथे पावा बलिए

हक्क मारी ना किस दा
एह वि बेबे ने सिखाया

घरे वडना नी केहन्दी
हक्क छड़ के ने आया

किस बन्दे मुहरे झुकना
क्यों दस्स फेर नी

जदों बाबे मुहरे
लगनी आ पेशी बलिए

हो होया की जे पिंडा
वाले देसी वजदे

मान वाली गल होना
देसी बलिए

हो ऐवें अन्नदाता
केहन्दे नी रकाने दुनिया

नाल बल्दा जमीना
कदे बैया जट्टा ने

हो आपा हद्द तोड़ कित्ती
आ कमाई बलिए

ऐवें कोठियां नी
लाइन आं विच पैयां जट्टा ने

हो रेहन्दी रौनक रकने
बेड़ा खुला चाहे तांग

तीड सब दा भारी दा
बुहे कित्ते नहिओ बंद

एह तां ठोड़ी
सरकार दियाब

लाइयां सट्टा ने
कित्ते मावां दे ने
पुत्त परदेसी बलिए

हो होया की जे पिंडा
वाले देसी वजदे

मान वाली गल होना
देसी बलिए

हो होया की जे पिंडा
वाले देसी वजदे

मान वाली गल होना
देसी बलिए


More Hindi Lyrics:


Post a Comment

Previous Post Next Post