Anupama Ka Move On - Anupama | Today Episode | 29th September 2021

रिव्यु और रिटेन अपडटेस हिंदी में - अनुपमा | अपकमिंग एपिसोड 380 | रुपाली गांगुली    


Anupama-Ka-Move-On--Anupama-Episode-380-29th-September-2021


अनुपमा का डर !!

वनराज के अचानक बीच पर पहुंचने पर और उसके ताने कसने पर अनुपमा को लगी ठेस और अनुज से मांगने लगी माफ़ी। अनुज को तो पहले से ही वनराज को लेकर पूरा विश्वास था की वह अनुज और अनुपमा को लेकर कोई न कोई परेशानी करेगा।  इसिलए वो कुछ ना बोल कर परिस्तिथि को बिगड़ने नहीं देता। 

अनुपमा को वनराज के किये तमाशे से नफरत होने लगी है। और उसे इस बात का डर सताता रहता है की वनराज का हर बार का नया तमशा उसकी लाइफ की कोई बड़ी मुसीबत न बन जाये।

अनुपमा को ये भी डर है की कही उसका काम शुरू होने से पहले ही वनराज कोई अड़ंगा न लगा दे।

अब मुंबई पहुँच कर वनराज ने जो सरप्राइज दिया है उसके पीछे क्या चाल है अभी तक सब अनजान है। 


अनुपमा -अनुज की आउटिंग !!

अनुज - अनुपमा एक क्लब में डिनर के लिए आते है जहा रेस्टुरेंट और डिस्को साथ में है। अनुज और अनुपमा पुरे दिन की घटनाओ की बात करते है।  अनुपमा कहती है की सुबह जितनी अच्छी थी शाम उतनी उदास।  अनुज कान्हा जी से प्राथना करता है की अनुपमा जो खुशियाँ के योग्य है उसे वो मिलनी चाहिए। 

अनुपमा जो हुआ उसे बुरे सपने भूलने की कोशिश करती है। 

वनराज और काव्या भी पहुँच जाते है उसी क्लब में।  वनराज तो राहु की तरह अनुपमा के पीछे पड़ गया है। एक बार राहु काल जा सकता है पर वनराज नहीं। 

अनुज को बात करते हुए गले में फंदा लग जाता है तो अनुपमा जल्दी से उसकी कमर मसलने लगती है । अब ये बताओ इसमें क्या बुराई है। इंसानियत के नाते कोई अजनबी की भी मदद करता है फिर ये तो उसका दोस्त कम बिज़नेस पार्टनर है।


रोहन ने नंदनी को किया परेशान !!

रोहन ने नादानी को पूरी तरह से टॉर्चर करने की सोच ली है।  गली में सभी लड़को को अपने मुखौटे देकर नंदनी को परेशान करने की ठान ली है। 

रिलेटेड: रोहन ने समर नंदिनी के रिश्ते को खतरों में डाल

 अनुपमा ने दिया वनराज को करारा जवाब !! 

वनराज और काव्या दो टेबल पीछे बैठे है, काव्या उठ के वाशरूम जाती है की इतने में वनराज को अनुज की कमर सहलाते हुए अनुपमा दिख जाती है। 

अनुज को भी एक कॉल आ जाती है जिसके लिए वो बहार चला जाता है। 

तभी वनराज मौका पा कर अनुपमा के पास आ जाता है। आते के साथ शुरू हो जाते है तानो की बौछार। 

अनुपमा आराम से चॉक्लेट आइसक्रीम खाने लगती है और कहती है की आप बोलते रहिये मै सुन रही हु। आप मुँह कड़वा करो मै मीठा करती हु। 

वनराज को बिलकुल पसंद नहीं आता की अनुपमा ऐसे अनुज के साथ घूम रही है। 

वनराज कहता है की तम्हे बिलकुल शर्म नहीं आती ऐसे पराये मर्द के साथ घूमते हुए।  तुम्हे अपनी इज़्ज़त प्यारी नहीं होगी पर मुझे अपने परिवार का ख्याल है और अपनी इज़्ज़त भी प्यारी है।

अनुपमा पूछती है की जब मैं आपकी पत्नी को स्वीकार कर सकती हु तो क्या आप मेरे दोस्त को स्वीकार नहीं कर सकते। अनुपमा अपनी बात को रखते हुए बोलती है की अगर मेरे लिए अनुज के दिल में कुछ है या नहीं, मुझे  इससे कोई फरक नहीं पड़ता।  मेरे लिए मैं खुद जरुरी हु। 

वनराज अपनी हालत बताते हुए कहता है की वो अनुज से बहुत जलता है जबकि ये नहीं होना चाहिए, अनुपमा से अलग हो कर भी वो उससे अलग नहीं हो पा रहा। 

पिछले 26 साल से हमारी लड़ाई नहीं हुई थी, हम लोग में आपसी तालमेल कितना था , मैं तुमसे प्यार नहीं कर पाया लेकिन हमारी अंडरस्टैंडिंग बहुत अच्छी थी। 

अब जब काव्या से शादी हुई तो डेली लड़ाई होती है जबकि मैंने उसे प्यार किया पर हमारे जैसी शादी नहीं बन पा रही। मैंने काव्या से रिश्ता तो जोड़ लिया पर तुमसे रिश्ता तोड़ नहीं पा रहा हु। 

तुम्हे काव्या से जलन नहीं हुई तुम सारी सिचुएशन में आसानी से निकल गई और उतनी ही आसानी से अनुज तुम्हारी लाइफ में भी आ गया। 

पर मैं तुम्हे निकाल नहीं सकता और काव्या से निभाह नहीं पा रहा। 

अनुपमा कहती है की काव्या के नज़दीकी बढ़ने की वजह मैं थी और अब उससे रिश्ता नहीं निबाह पा रहे है तो उसकी भी वजह मैं ही हूँ । 

अगर आपको किसी पे गुस्सा निकालना है तो अपने ऊपर निकालिये। 

वनराज को जो बात चुभ रही है वो है अनुपमा का मूव ऑन करना !!

अनुपमा कहती है आपको पराई औरत से बात नहीं करनी चाहिए।  भी मै चाहे जो करू आपको क्या ? आज के अनुपमा के डायलॉग बहुत ही सॉलिड थे। 

अनुपमा वनराज की हर बात को काटते हुए यही कहती है की अनुज के दिल या मेरे दिल अनुज के जो भी है उससे आपको क्या ?

आपका क्या हक़ है मेरी लाइफ में ? आप तो मेरे कुछ भी नहीं हो !!

मै अनुज के साथ कुछ भी करू, किसी के साथ दोस्ती करू अफेयर करू आपको क्या ?

रिलेटेड: क्या अनुज और अनुपमा में हो सकता है प्यार??

हां मैं आगे बढ़ चुकी हु पर आप ही मुझे बार बार पीछे खींचने की कोशिश करते हो। 

हां हमारी शादी में कोई लड़ाई झड़गे नहीं हुए क्योकि हमारी शादी में मैं तो कही थी ही नहीं सिर्फ आप ही थे। अब आपकी शादी में काव्या भी है तो झगडे तो होने ही है।  क्योकि मैं चुप रहती थी और काव्या मेरी तरह पायदान नहीं है। 

आपकी शादी में आपके ईगो के लिए कोई जगह नहीं है तो अपनी लाइफ पर ध्यान दो तो ज़ादा अच्छा रहेगा।  


आपको क्या लगता है - ड्रिंक पीने के बाद क्या होगा वनराज और अनुज के बीच ? होगी हाथापाई या होगा दोस्ताना ? देखते है अगले एपीसोड में !!

अगर आपको मेरा ब्लॉग पसंद आये तो प्लीज सब्सक्राइब जरुर करीये। 

पढ़ने के लिए धन्यवाद् !!

उमा धीमान 

Post a Comment

Previous Post Next Post