Vanraj Feels Jealous Seeing Anupama - Anuj's Closeness - Anupama EP : 365

Anupama 11th September 2021 - Today's Episode 365 written update in Hindi

अनुपमा में अभी तक आपने देखा की अनुज अपने बिज़नेस की आगे ग्रोथ के लिए शाह फॅमिली के बिज़नेस आइडियाज को वेलकम करता है  और अनुपमा , वनराज और काव्या को अपने ऑफिस में इनवाइट  करता है। अनुपमा अनुज के ऑफिस वनराज काव्या के साथ न आकर अकेले आती है जिससे वनराज नाराज़ हो जाता है। 

अनुपमा का आज का एपिसोड 365 पढ़िए -  मेरे यानि उमा धीमान के साथ !! 

Today's Episode 365 written update in Hindi

Vanraj-Feels-Jealous-Seeing-Anupama-Anuj's-Closeness

क्या अनुपमा का प्रेजेंटेशन आईडिया आएगा अनुज को पसंद?

अनुपमा प्रेजेंटेशन स्टार्ट करती है, अनुज हेल्प करने के लिए पूछता है पर अनुपमा सब खुद से ही मैनेज कर लेती है।  प्रेजेंटेशन की हेल्प से अनुपमा हर घर में रहने वाले शेफ यानि गृहणी की तरफ इशारा करती है की बड़े बड़े होटल्स में हर तरह की डिश मिल सकती है पर माँ के हाथ का खाना नहीं।

अनुपमा अनुज को ऐसी गृहणियों पर इन्वेस्ट करने के लिए सलाह देती है जो अपनी जी जान लगा के उसके लिए काम कर सकती है और उनकी सैलरी भी शेफ से बहुत कम होगी। अनुपमा की बातें अनुज को उसकी माँ की याद दिलाने लगती है। 

अनुज को आईडिया तो पसंद आता है पर बिज़नेस प्रक्टिकल आईडिया से चलता है ऐसा सोच के वो अनुपमा से टाइम लेता है और काव्या वनराज को भी सोच कर जवाब देने के लिए कहता है।  जाते वक़्त अनुपमा को रोक लेता है, वनराज को ये बात भी खटकती है। 

अनुपमा अनुज को मीटिंग के लिए थैंक यू बोलती है। अनुज अनुपमा को कुछ देना चाहता है, और उसका डिब्बा अपने डेस्क से उठा के उसे थमा देता है ये कह कर की औरते कुछ भी छोड़ सकती है पर अपना डिब्बा नहीं !! 

अनुपमा को डिब्बे में कुछ महसूस होता है, खोलके देखने पर उसमे इमली और आमपापड़ होता है जिसे देख के अनुपमा बहुत खुश हो जाती है। अनुज बताता है की देविका और तुम कॉलेज के बहार इमली और आमपापड खाती थी, मुझे सब याद है। अनुपमा की पुरानी यादें ताज़ा हो जाती है जो समय के साथ भूल गई थी। 

अनुज कहता की मेरे पास बहुत है अनुपमा को लगता है की क्या इमली और आमपापड, अनुज कहता की नहीं यादें। और शायरी शुरू कर देता है तो अनुपमा बोलती है की जी. के काका सही कहते है आप शायरी सुना के किसी को हिलने भी न दे। 

दोनों फिर ज़ोर से हसते है, अनुपमा कहती है की मुझे शायरी बिलकुल समझ नहीं आती।  फिर अनुज को उसका हॉट चॉक्लेट मिल्क जो ठंडा हो जाता है उसको गरम करा के पी लेने के लिए बोल कर केबिन से चली जाती है। 

वनराज और काव्या केबिन के बहार अनुपमा का वेट ही कर रहे होते है, काव्या टोंट मरते हुए  कहती है की हमारे साथ आई तो नहीं थी पर हम तुम्हे लिफ्ट दे देंगे। 

वनराज मौका पाते ही पूछता है की अनुज उसको अकेले में क्या बोल रहा था - अनुपमा डिब्बा दिखते हुए बोलती है की ये देना था~ वनराज को विश्वास नहीं होता की क्या ये तिज़ोरी में था की हमारे सामने नहीं दे सकता था कह कर निकल जाता है।


समर नंदनी के प्यार की वापसी 

समर नंदनी के पास अपनी गलती का अहसास लिए जाता है और उसको बहुत सारा सॉरी बोलता है, नंदनी भी अपनी गलतियों के लिए सॉरी मांगती है।  समर सॉरी बोलने के लिए 'तुम से ही' गाने के बोलो का सहारा लेता है।  दोनों के सारे गिला शिकवा दूर हो जाते है। आने वाली हर मुश्किल (रोहन) का साथ मिलकर मुकाबला करने का प्रॉमिस करते है। 

मुझे ये लव बर्ड सीन बहुत अच्छा लगा।

वनराज, अनुपमा की मीटिंग के बाद घर पे नोकझोक   

घर आते समय भी वनराज की आँखे अनुपमा पर ही रहती है वो अपने कॉलेज की यादें पाकर अलग ही लेवल पर थी।  कार में काव्या क्या बात कर रही है उसको कोई खास मतलब नहीं था। वो ख़ुशी ख़ुशी इमली खाने का आनद लेने लगती है। 

गाड़ी से उतर कर वनराज ताना मरते हुए बोलता है की किसी को इतनी ख़ुशी से इमली खाते पहली बार देखा, अनुपमा एक इमली वनराज को पकड़ा कर कहती है शीशे में देख के खाना और गुस्से में इमली खाते हुए भी अपने आप को पहली बार देखोगे। 

मुझे भी यहाँ पर बहुत हसी आई थी। वनराज क्यों जल रहा अनुपमा की छोटी छोटी खुशियों से समझ नहीं आता। 

बा पूछती है की मीटिंग में क्या हुआ , काव्या ने बोला की हमारी प्रेजेंटेशन तो पसंद आई पर एक दो दिन लगेंगे अभी, पर  मैंने इतनी अच्छी प्रेजेंटेशन बनाई है की अनुज मना कर ही नहीं सकता। बा को अच्छा नहीं लगता की काव्या सिर्फ अपने बारे में बोलती है वनराज का नाम भी नहीं लिया। 
फिर दोनों (काव्या और V) अनुपमा को सुनाने लग जाते ही इतना बेवकूफ वाला आईडिया क्यों दिया , तुम्हारा दोस्त है तो कुछ भी करोगी।


अनुपमा बहुत अच्छे से दोनों को जवाब देती है की जब पहली बार किसी ने हवाई जहाज का आईडिया दिया होगा तो भी आप जैसे लोगो को वो बेवकूफ ही लगा होगा। एक लकीर पे चलने वालो को नया रास्ता बनाने वाले पर हसी आती है पर मै बेवकूफ नहीं हूँ। 

मुझे तो भई बहुत अच्छा लगा अनुपमा का उदाहरण के साथ अपनी बात को रखने का तरीका।  आप भी मुझे शेयर कर सकते हो की आपके पास अनुपमा की तरह कोई बिज़नेस आईडिया है!! 

आप को क्या  लगता है अनुज के दिल की बात दिल में रहेगी या आँखों से अनुपमा के दिल तक जाएगी!!! नागिन (राखी दवे) क्या बिगाड़ देगी दोस्ती अनुज और अनुपमा की !!


Post a Comment

Previous Post Next Post