Vanraj Na Kar Paya Wo Anuj Karega - Anupama Upcoming EP

रिव्यु एवं रिटन अपडेट - अनुपमा  24th सितम्बर 2021 एपीसोड 376 हिंदी में !!

क्या अनुपमा (Rupali Ganguly) का सपना होगा पूरा??

सभी का कोई ना कोई  सपना जरूर होता है, जिसके पूरा होने की उम्मीद में ही पूरा जीवन कट जाता है। और सपना, सपना ही बन कर रह जाता है। 

ऐसे ही सपने अनुपमा के दिल में दबे हुए थे, जिनको पूरा करने जा रहा है अनुज कपाड़िया।  अनुपमा के आज के साथ, उसका बिता जीवन भी हाथ थामे चल रहा है। तभी तो उसे वनराज की दी हुई हर डांट, हर ताना, हर चोट - सब याद आता रहता है। 

कल की अनुपमा क्या थी और आज की अनुपमा क्या बनने वाली है। 
अनुपमा के सपने पुरे करने की बारी आ चुकी है। 

Vanraj-Na-Kar-Paya-Wo-Anuj-Karega--Episode-376-Promo-24th-September-2021

अनुपमा को अनुज से बहुत काम समय में बहुत कुछ सीखना है  इसके लिए अगर मुंबई क्या देश से बाहर भी जाना पड़े तो जाना पड़ेगा।  

बापूजी, समर, किंजल, नंदनी और पाखी अनुपमा के लिए खुश है जीवन की नई सिरे से शुरुआत के लिए अनुपमा को तैयार कर रहे है । 

रिलेटेड: किसने जीता चैलेंज ? - अनुपमा  EP375

अनुपमा ने किया बा से सवाल जवाब !!

बा ना तो अनुपमा की खुशियों में शामिल हो रही है और न ही उसको प्यार से गले लगा कर आशीर्वाद दिया।

अनुज ने वनराज और काव्या का प्रपोजल रिजेक्ट किया है उसकी वजह अनुपमा को ही माने बैठी है। 

अनुपमा को उन्होंने बेटी कहा है इसी बात के लिए अनुपमा ने कर डाले बा से सवाल जवाब की आखिर ऐसा क्यों ??  जब डोली बेहेन अपने ऑफिस के साथियो के साथ मीटिंग के लिए विदेश गई थी तब आपने उनके लिए थेपले बना के भेजे थे और मेरे लिए थपड ?

इतना फरक क्यों !! बा के अनुसार डोली जिनके साथ गई थी वो उसके दोस्त नहीं थे और वनराज के लिए उनके मन में डोली बेहेन के लिए मन में कुछ नहीं था। 

अनुपमा ने वनराज को जवाब दिया की आपको कैसे पता ?? क्या आपके पास एक्सरे मशीन है जो आप किसी के मन में क्या चल रहा है देख सकते है ? वनराज के पास कोई जवाब नहीं था। 

अनुपमा ने बात जारी रखी और कहा की किसी के मन में क्या चल रहा है ये हम पता नहीं लगा सकते जैसे की मिस्टर शाह के मन में इतने साल से क्या चल रहा था मैं नहीं जान पाई।  शाबाश अनुपमा !!

बा कहने लगती है की तू पराय मर्द के साथ अकेले बाहर जाएगी, और कुछ हो गया तो ?

अनुपमा ने बा को समझाते हुए कहती है की आप अपनी अनुपमा को नहीं जानती क्या, मेरी बिना मर्ज़ी के कोई मुझे हाथ नहीं लगा सकता और अगर ऐसा हुआ तो कान्हा जी कसम मैं उसका हाथ उखाड़ के फेक दूंगी।

बा का चेहरा संतोषजनक दिखा पर न तो अनुपमा को जाने के लिए कहा और न ही उसे अपने गले लगाया।  

वनराज को देखते हुए अनुपमा ने अपनी बात कह डाली की बेकार बातें करके घर का माहौल ख़राब न करे और साथ में ही दे डाली धमकी - मुझे परेशान करना बंद कर दो ! 

वरना चुकानी पड़ेगी कीमत! (ये शब्द अनुपमा ने कहे नहीं पर उसकी आँखे कह रही थी)

अनुपमा जो भी कर रही है वो अपने परिवार की खुशियों को लिए ही तो कर रही है।  पर बापूजी के अलावा किसी को उसकी मेहनत और सचाई दिखाई नहीं देती। 

तोषु करता है बहस !!

समर और किंजल, अनुपमा के जाने की तैयारी कर रहे होते है की तोषु वहा आकर उनसे बहस करने लगता है की उसे ये  सब सही नहीं लग रहा है और वो लोग अनुज का साथ न दे।  तोषु कहता है की वो कोई उनका दुश्मन नहीं है वो भी मम्मी से प्यार करता है पर सोसाइटी की फ़िक्र है उसे। 

किंजल और समर दोनों मिलकर तोषु को चुप करा देते है और वहा से जाने के लिए कह देते है। 

बापूजी का साथ !!

अनुपमा दूध का गिलास बापूजी के लिए लेके आती है, बापूजी उसकी शकल देख के कहते है की तूने मुँह क्यों लटकाया है।  उन्होंने तुझ पर उंगली उठाई और तूने जवाब दे दिया अब खुश हो जा।  और वैसे भी कल तुझे प्लेन में भी तो बैठना है जा तैयारी कर।  तभी वह पाखी, समर और किंजल आ जाते है। 

अनुपमा सबको बताती है की उसने ये सपना तब देखा था जब वो छोटी थी। उसकी गली में अभी तक कोई प्लेन में नहीं बैठा , वो पहली है जो हवाई जहाज़ की यात्रा करेगी। 

सब अनुपमा को देख कर खुश हो रहे थे।  किंजल कहती है वो बचपन से प्लेन में आना जाना करती थी तो उसे इस बात का अहसास नहीं है की ये बात किसी के लिए इतनी बड़ी भी हो सकती है। 

अनुपमा  पूछती है की क्या प्लेन में खाना ले जाने देते है तो मै थेपले और चटनी ले जाउंगी। 
अनुपमा की बात'सुन कर सब हसने लगते है। 

इस सीन में अनुपमा एक छोटे बच्चे की तरह चेहरे के हाव भाव देती है।  जिसे देख के और भी मज़ा आता है। 

काव्या और वनराज की बेचैनी !!

जहा पूरा परिवार अनुपमा के लिए खुश है वही वनराज और काव्या हो रहे है बेचैन। 
काव्या के डायलॉग आजकल बहुत ही अच्छे लगते है। 

काव्या कहती है की ये थेपले बनाने वाली बिज़नेस करेगी और फ्लाइट में घूमेगी किसने सोचा था।  अनुपमा के अच्छे  कर्मो का फल है अनुज। मैं भी यही कहूँगी की हां अनुपमा की प्रार्थना का फल है अनुज (अधूरा प्यार कब होगा पूरा??)। 

और कहती है की काश ये कोई डेली सोप होता है और वो वैम्प होती, रोज़ नए नए षडियंत्र रचती।  किसी भी तरीके से अनुपमा को जाने नहीं देती।  और भी न जाने क्या क्या सोचती रहती है। 

उधर वनराज सब लोगो की बातें सुन लेता है, की अनुज अनुपमा के दोनों सपनो को पूरा करने जा रहा है जिसकी अनुपमा को कभी कोई उम्मीद भी नहीं थी।  मन ही मन कहने लगता है की उसे अनुज से इतनी जलन क्यों हो रही है, जब अनुपमा उसके साथ थी तो उसने कभी उससे प्यार नहीं किया।

जिससे प्यार किया उससे शादी कर ली तो फिर अब अनुपमा के लिए वो क्यों ऐसा फील कर रहा है।  बात तो यही सच है की वनराज क्यों अनुज से चिढ़ रहा है।

शायद वनराज को अकल आ जाये और अनुपमा का पीछा छोड़ दे ।  उसकी लाइफ है चाहे जैसे  जिए। वनराज को काव्या चाहिए थी और मिल भी गई। 

अब अनुपमा को चैन से अनुज के साथ बिज़नेस करने दे।

अनुज की उड़ गई है नींद !!

अनुपमा के साथ ट्रेवल करना अनुज के लिए एक सपने जैसा है जिसका इंतज़ार उससे नहीं हो प् रहा और अनुज की उड़ चुकी है नींद।  अनुज को बस सुबह का इंतज़ार है जब वो अनुपमा के साथ में मुंबई जायेगा । 

अनुपमा उधर सपना देखती है की अनुज उसे कॉल करके जगाता है की उसने फ्लाइट मिस कर दी।  अनुपमा चौंक के उठती है और बिस्तर से गिर जाती है।  फ़ोन उठा  के देखती है तो  चार बज रहे होते है।  फिर खुद से बात करते हुए कहती है की गिरने की बात छोड़ और उड़ने का सोच - अनुपमा। 

अब आने वाला है बहुत मज़ा क्योंकी अनुपमा पहली बार घर से दूर अकेले अपने  दोस्त के साथ अपने सपने  पुरे करते दिखने वाली है। 

क्या बा ख़ुशी ख़ुशी करेंगी अनुपमा को विदा ??  या अनुपमा जाएगी होकर उदास ?? आपको के लगता है, आप बता सकते है मुझे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके !

देखते है क्या आने वाले अनुपमा का एपिसोड में। 

अगर आपको मेरा ब्लॉग पसंद आये तो प्लीज सब्सक्राइब करिये !

पढ़ने के लिए धन्यवाद्!


उमा धीमान

अनुपमा के आज के एपिसोड का हिंदी रिव्यु देखिये -


Post a Comment

Previous Post Next Post