Anupama 27th October 2021 Spoiler Alert EP 405 - Anupama Ne Raunda Vanraj Ka Ghamand

अनुपमा सीरियल अपडेट 

अनुपमा 27 अक्टूबर 2021 स्पोइलर अलर्ट हिंदी में -  अनुपमा ने रौंदा वनराज का घमंड 

Anupama-27th-October-2021-Spoiler-Alert-EP-405-Anupama-Ne-Raunda-Vanraj-Ka-Ghamand

Anupama 27th October 2021 Spoiler Alert In Hindi - Anupama Ne Raunda Vanraj Ka Ghamand

Written Update

अनुपमा सीरियल में अभी तक आपने देखा की काव्या ने अपने ऑफिस के पहले ही दिन अनुज के ऑफिस में जो हंगामा किया वो सिर्फ काव्या के लिए ही नहीं अनुज और अनुपमा के लिए भी भारी पड़ रहा है। अनुपमा इतनी मुश्किल से बहार निकल कर अपना नाम बनाने की कोशिश में है ताकि वह अपने जैसी दूसरी महिलाओं के जीवन में नई रौशनी भर सके। 

ऐसा लगता है अनुपमा जिस स्पीड में खुशियों की तरफ बढ़ती है मुश्किलें और तकलीफे उससे डबल स्पीड में अनुपमा तक पहुंच जाती है। ये बात खुद अनुपमा ने देविका से की थी। हमेशा से अनुपमा के जीवन में खुशियों के साथ साथ दुःख और मुसीबतों ने भी हाथ बढ़ाया है। लेकिन कहते है ना की जीवन सुख और दुःख का ही नाम है। 

वनराज और बा से मिलने वाले तानो की अनुपमा को अब आदत सी पड़ चुकी है।  जैसे ही अनुपमा घर पहुंची तो भड़का हुआ वनराज अपनी ऊँची आवाज़ में अनुपमा की तरफ आगे बढ़ने लगा। अनुपमा को गिरा हुआ और घाटीया कहा। 

काव्या को पहले ही दिन नौकरी से निकाल देने की बात पर वनराज ने घर सर पर उठा लिया। अनुपमा धीरे से कान में से रुई निकल कर, वनराज को रोज़ घिसे पिटे डायलॉग मरने से अच्छा वौइस् नोट बना कर वाट्सप करने के लिए बोलती है। 

अनुपमा कहती है की वह एक ही डायलॉग सुन सुन के बोर हो गई हूँ और एक बात कल सुबह शहर से दूर अनुज के साथ एक मीटिंग के लिए जाने वाली हु वो भी घर के आगे से उसके साथ गाड़ी में बैठ के जाउंगी। उसका भी जो बोलना हो वो रिकॉर्ड कर के भेज देना, सुबह टाइम ख़राब है होगा। 

वनराज अनुपमा से ये अपमान सहन नहीं कर पता है जाते हुई अनुपमा का हाथ पकड़ कर उसे खींचने की कोशिश करता है, अनुपमा अपना हाथ झटक लेती है और वनराज गिरते गिरते बचता है। वाह अनुपमा वाह !

बापूजी अनुपमा को सांत्वना देते है की औरत को दर्द सहने की आदत नहीं बनानी चाहिए वरना दर्द देने वाला भी दर्द देने की आदत बना लेता है। अनुपमा अपनी इस हिम्मत और हौसले के लिए बापूजी को धन्यवाद् करती है।  उनका साथ न होता तो अनुपमा ये अनुपमा कभी नहीं बन पाती। 

अनुज अनुपमा को लेने सुबह गाड़ी से पहुंचता है और वनराज भी मॉर्निंग वाक से तभी घर के आगे खड़ा होता है। अनुपमा को बाहर निकलता देख वह हाथ से दरवाज़ा पकड़ लेता है। सारा आस पड़ोस आँखे फाड् के शाह परिवार के तमाशे देख रहा होता है। 

अनुपमा को बापूजी की कही बात याद आती है वह कुर्सी रख के दिवार चढ़ कर निकल जाती है।  वनराज अनुपमा को धमकी तो देता है की अगर घर के बाहर कदम निकला तो वापस कदम नहीं रख पाओगी। लेकिन जैसा की मैंने कहा था अनुपमा को बा या वनराज की बातों का कोई असर नहीं होता। 

अनुपमा की ऐसी हिम्मत पर अनुज भी गर्व महसूस करता है। मीटिंग में पहुंचने से पहले अनुज और अनुपमा एक मंदिर पहुँचते है जिस मंदिर को अनुज एक ज़माने से मानता आ रहा है। 

मंदिर के बहार बैठ कर अनुपमा अनुज से पूछ लेती है की आपने शादी क्यों नहीं करि तो अनुज अनुपमा को कोई जवाब नहीं दे पाता। 

और भी अपडेट पढ़िए -

अनुज करने वाला है अनुपमा से भी एक सवाल की जीवन साथी की जरूरत तो सभी को होती है तो अनुपमा क्यों दुबारा शादी के बारे में नहीं सोचती। 

क्या जवाब देगी अनुपमा दुबारा शादी के बारे में ?

क्या अनुज और अनुपमा सही सलामत घर वापस आ जायेंगे ?

क्या अनुज और अनुपमा के साथ घट सकती है कोई अनहोनी ?

देखते है क्या आने वाला है अनुपमा के अगले एपिसोड में !

रॉक एन रोल के साथ जुड़े रहने के लिए धन्यवाद् !     


Post a Comment

Previous Post Next Post