GHKKPM Written Update - Sai Ke Jaane Se Aprabhavit Hai Virat EP - 313

गुम है किसी के प्यार में 02 अक्टूबर 2021 लिखित एपिसोड अपडेट - साई के जाने से अप्रभावित हैं विराट

GHKKPM-Written-Update-Sai-Ke-Jaane-Se-Aprabhavit-Hai-Virat-EP-313

साई के जाने से अप्रभावित हैं विराट

एपिसोड की शुरुआत में करिश्मा सबको बताती हैं कि साईं अपने कमरे में नहीं हैं; हर कोई हैरान है। सम्राट, विराट से पूछता है कि क्या वह जानता है कि साईं कहां है?

अश्विनी रसोई में काम कर रही होती है, तब उसे साईं का पत्र दिखाई देता है। साईं ने लिखा होता है कि उसके पास घर छोड़ने के अलावा और कोई चारा नहीं है, और वह वापस गढ़चिरौली जा रही हैं।

कहानी के दूसरी तरफ, बच्चे के माता-पिता उसे उठा लेते हैं, लेकिन वे नहीं देखते कि साईं गड्ढे में गिर गयी है। लेकिन बच्चा साईं को दिखाने के लिए वापस गड्ढे के पास चला जाता है।

अश्विनी, विराट को साई की चिट्ठी दिखाता है। सोनाली और भवानी, अश्विनी से पूछते हैं कि वह परेशान क्यों दिख रही है। अश्विनी उन्हें बताती है कि साई हमेशा के लिए घर छोड़कर चली गयी हैं।

विराट चिट्ठी को मसल देता हैं। ओमकार पूछता है कि क्या साई उन सभी के साथ कोई शरारत तो नहीं कर रही है। भवानी बोलती है कि, जब से साईं घर में आयी थी, तब से उन्हें कभी भी शांति से रहने नहीं दिया।

पाखी सोचती है, इसलिए साईं कह रही थी कि आज से सब ठीक हो जाएगा। अश्विनी कहती हैं कि उन्हें नहीं पता था, कि साईं ने सभी समस्याओं का हल करने का यह तरीका ढूंढ लिया है।

सम्राट, विराट से पूछता है कि उसे कैसे पता नहीं चला की साई घर छोड़ कर जाने वाली है? विराट कहता है कि वह साई के जाने से हैरान नहीं हैं, क्योंकि जब से वह इस घर में आई हैं, तब से वह ऐसा कह रही हैं।

शिवानी बताती है कि साईं अपने सारे कपड़े और किताबें ले कर चली गई हैं। सम्राट फिर से पूछता है कि जब साईं ने उसका सारा सामान पैक कर लिया था, तो विराट को कैसे पता नहीं चला?

विराट कहता हैं कि वह किसीका दिमाग नहीं पढ़ सकता, की सामने वाला क्या करने वाला है।

यह भी पढ़े: विराट ने साईं से बात करने से किया इनकार

सम्राट एक बार और पूछता कि साईं ने विराट को कभी कुछ भी क्यों नहीं बताया? विराट, सम्राट से कहता है कि साईं ने देवी को सब कुछ बता दिया था।

देवी बताती है कि उसने विराट को यह बात बतायी थी, लेकिन विराट ने साई को रोकने से इनकार कर दिया था।

साई के दोस्तों ने साई की मद्दद की

वही दूसरी और, बच्चे के माता-पिता, लोगों को साईं की मदद के लिए बुलाते हैं। साईं के कॉलेज के दोस्त उसे देखते हैं। कैब ड्राइवर उनसे कहता है कि वह उसे अपनी कैब में डॉक्टर के पास ले जाएगा, क्योंकि साई का सारा सामान कैब में ही है।

चवण निवास में - विराट कहता है कि साईं ने अपने फायदे के लिए देवी का इस्तेमाल किया है।

पाखी, सम्राट को विराट से सवाल नहीं करने के लिए कहती है, क्यों की साईं कई दिनों से असामान्य व्यवहार कर रही थी। पाखी कहती है कि साईं ने पूजा में शामिल होने से इनकार कर दिया था, और उसने जो भी कोशिश की, उसका कोई जवाब नहीं दिया।

सम्राट कहता है कि शायद पाखी का प्रयास काफी नहीं था। यह सुन कर पाखी हैरान हो जाती है। फिर सम्राट कहता है कि शायद उसने उसे साफ दिल से आमंत्रित नहीं किया था। सम्राट बोलता है कि पाखी को परिवार में सभी के साथ समान संबंध रखे चाहिए।

निनाद, सम्राट से पूछता हैं कि पाखी को साईं के जाने के लिए क्यों जिम्मेदार ठहरा रहा हैं? उनका कहना है कि साई पुलकित के घर गयी होगी, और जल्द ही वापस आ जायेगी।

विराट ने साई को रोकने से किया इनकार

सम्राट कहता है कि, साई शायद अभी भी बस स्टॉप पर होगी और वे अभी भी उसे रोक सकते हैं। वह विराट को साथ आने के लिए कहता है, लेकिन विराट मना कर देता है। वह कहता है कि, अच्छा हुआ कि साई चली गई।

विराट बोलता हैं कि साई को भी महसूस होना चाहिए, कि अकेले रहना कैसा लगता है। वो कहता है कि साई को परिवार के महत्व का एहसास होना चाहिए।

यह भी पढ़े: साई का एक्सीडेंट

साईं के दोस्त, साईं को अस्पताल ले जाते हैं, और पुलकित भी अस्पताल पहुंचता है। साईं के दोस्तों का कहना है कि उन्हें पता नहीं था, कि साई कॉलेज और शहर दोनों छोड़ कर जा रही है।

अश्विनी, विराट से पूछती है कि वह साईं के बारे में इस तरह क्यों बात कर रहा है?

विराट बोलता है कि वह साई के व्यवहार से थक चुका हैं। वह उसे बताता है कि साईं ने उससे उसके दस्तावेज वापस ले लिए, और कहता है कि उसने सब कुछ अपनी इच्छा के अनुसार ही किया है।

ओमकार बोलते है कि, इसका मतलब है कि साई लंबे समय से इसकी योजना बना रही थी। उनका कहना है कि वह उन्हें बता सकती थी। भवानी बोलती है कि, साई बिना किसी को बताए कैसे चली गई। तभी देवी बताती है कि उसने साई की मदद की थी।

विराट, अश्विनी से कहता है कि उसने अपने फायदे के लिए देवी का इस्तेमाल किया। देवी कहती है कि उसने (विराट) साईं को कभी नहीं समझा।

सम्राट, देवी से पूछता है कि उसने इस बारे में कभी किसी को क्यों नहीं बताया? देवी बताती है कि यह उनका गुप्त खेल था, और कोई भी उसके कोड का जवाब नहीं दे सका था, इसलिए वह नहीं बता सकती थी।

पाखी, विराट से कहती है कि उसे पता था कि साई और देवी के बीच कुछ चल रहा है। देवी कहती है कि साई की टीम को हमेशा जीतना चाहिए।

तभी भवानी कहती हैं कि सम्राट हमेशा साईं का समर्थन करता रहा है, लेकिन वह पूरी सच्चाई नहीं जानता। वह सम्राट से कहती है कि साईं एक अच्छी इंसान नहीं है, और दूसरों की खुशी से ईर्ष्या करती है।

दोस्तों, आप लोगो को क्या लगता है - की क्या साई के वजह से घर के लोग आपस में झगड़ रहे है? या इसका असली ज़िम्मेदार कोई और है? प्लीज निचे कमेंट करके बताये।

गुम है किसी के प्यार में के आने वाले एपिसोड्स और भी इंटरेस्टिंग होने वाले है, आगे जाने के लिए मिलते हैं अगले एपिसोड के साथ। 

Post a Comment

Previous Post Next Post