Ghum Hai Kisikey Pyaar Mein 7 November 2021 Maha Episode Written Update - Ninad Ka Chaukaane Wala Khulasa

Ghum Hai Kisikey Pyaar Mein 7 November 2021 Maha Episode Written Update - Ninad Ka Chaukaane Wala Khulasa

Ghum-Hai-Kisikey-Pyaar-Mein-7-November-2021-Maha-Episode-Written-Update

गुम है किसी के प्यार में 7 नवंबर 2021 महा एपिसोड रिटन अपडेट - निनाद का चौकाने वाला खुलासा

आज के एपिसोड की शुरुवात में पुलकित और सनी, निनाद और अश्विनी की शादी की सालगिराह के उत्सव के लिए चवण निवास पोहोचते है। वहीँ पे सभी निनाद और अश्विनी के तैयार हो कर नीचे आने की प्रतीक्षा कर रहे होते है। 

तभी निनाद शेरवानी पेहेन कर नीचे आता है, उसे देख सभी उसकी बहुत तारीफ़ करते है। इसके बाद अश्विनी, विराट और सई के दुवारा गिफ्ट में दिया हुए साडी पेहेन कर नीचे आती है - उसे देख सभी उसकी भी बहुत तारीफ़ करते है। 

अश्विनी को देख भवानी भी उसकी तारीफ़ करती है, लेकिन जलकुकड़ि सोनाली उसे देख कर जल भून जाती है, इस लिए अश्विनी को ताना मारते हुए कहती है की वो कुछ ज़्यादा ही तैयार हो गयी है। 

तभी चवण निवास में सपना (अश्विनी की बड़ी बेहेन) की एंट्री होती है और वो सोनाली को जवाब देती है की उसकी बेहेन की शादी की सालगिराह है तो उसे तैयार तो होना ही था। सपना को अपने घर में देख भवानी चीड़ जाती है। 

यह भी पढ़े: गुम है किसी के प्यार में 8 नवंबर 2021 रिटन अपडेट - निनाद ने अपनी गलती मानी और सभी को चेतावनी दे डाली

सोनाली को भी अच्छा नहीं लगता ही सपना चवण निवास में आयी है, इस लिए उससे पूछती है की उसे किसने बुलाया, सपना बताती है की उन सब को मोहित ने बुलाया है। 

इसके बाद विराट और सई एक प्रोजेक्टर स्क्रीन पर निनाद और अश्विनी के कश्मीर के फोटोज लगा देते है। यह देख निनाद चीड़ जाता है और अश्विनी से पूछता है की उसने यह तस्वीरें क्यों दिये। 

अश्विनी बताती है की उसने सई को सिर्फ एल्बम देखने के लिए दिया था, पता नहीं कब उसने उसमे से यह तस्वीरें निकाल लिये। इतने में वहाँ संगीत बजने लगता है, जिस पर विराट और सई डांस करते है। 

विराट और सई एक दूसरे के कितने करीब है यह उनके डांस के दौरान सभी को दिखता है, यह देख सभी खुश होते है, वहीँ पाखी के सीने में आग लग जाती है। दोनों ही नाचते नाचते निनाद और अश्विनी को स्टेज पर ले आते है। 

विराट और सई के जोर देने पर निनाद और अश्विनी नाचने लगते है और अश्विनी शर्माने लगती है, लेकिन निनाद को यह सब पसंद नहीं आता। निनाद एक दम से चिल्ला पड़ता है और यह सब बंद करने के लिए कहता है। 

निनाद कहता है की उसे इस औरत के साथ डांस नहीं करना, यह सुनते ही अश्विनी की आँखे भर आती है और विराट को निनाद की यह बात चुभ जाती है। विराट कहता है की यह कोई औरत नहीं है, बल्कि उनकी पत्नी और उसकी माँ है। 

निनाद बोलता है की उसने सिर्फ विराट की ख़ुशी के लिए पार्टी में शामिल होने के लिए हाँ कहाँ था, लेकिन अब उसका दम घुट रहा है इन् सब ड्रामो से। सई इसका जवाब देते हुए कहती है की अगर इतने में ही उसका दम घुट गया, तो सोचिये इतने सालो से अश्विनी का कितना दम घुटा होगा। 

वहीँ खाड़ी सपना जो यह सब देख रही थी, वो भी निनाद के इस बर्ताव पे क्रोधित हो जाती है और निनाद को फटकार लगते हुए कहती है की वो अपनी पत्नी से सब के सामने इस तरह से बात नहीं कर सकता। 

यह सुनते ही भवानी बिच में कूद पड़ती है और सपना को चुप रहने के लिए बोलती है, क्यूंकि यह चवण परिवार का मामला है और वो इस परिवार की नहीं है। लेकिन सपना चुप रहने वालों में से नहीं है। वह कहती है की अश्विनी उसकी परिवार की है तो आज उसे कोई चुप नहीं करवा सकता। 

भवानी दुबारा से सपना को उसके परिवार के मामले में न बोलने को कहती है, अश्विनी भी सपना को चुप रहने को कहती है। सपना कहती है की आज तक अश्विनी का पक्ष किसी ने नहीं लिया और न ही किसी ने उसका सम्मान किया है। 

आज सई ने अश्विनी का पक्ष लिया है और यह देख कर विराट भी अपनी माँ का साथ दे रहा है। सई की तारीफ़ सुनते ही पाखी बोलती है की सई की अच्छाई तो दूर दूर तक फैली हुई है। सोनाली कहती है की यह सब ड्रामा अश्विनी का रचा हुआ है और उसने ही सपना को यहाँ बुलाया है। 

अश्विनी रोते हुए कहती है की उसको पता भी नहीं था की सपना यहाँ आने वाली है, इस पर विराट कहता है की सपना को बुलाने का प्लान उसका था।

भवानी विराट से पूछती है की सपना को बुलाने से पहले उसने उसे क्यों नहीं पूछा। सई कहती है की अगर बहु की शादी की सालगिराह है तो उसके घर वाले तो आएंगे ही। तभी सोनाली पूछती है की सपना को कैसे पता चला की अश्विनी के साथ हम सब दूर व्यव्हार करते है। 

सोनाली की बात सुनते ही भवानी भड़क जाती है और अश्विनी से पूछती है की तुम इस घर की बहु हो कर यहाँ की बातें अपने घर पर क्यों बताती हो। अश्विनी बोलती है की उसने कभी अपने घर वालों से कोई शिकायत नहीं की है। 

वो सिर्फ अपनी बेहेन से बात करती थी, लेकिन कभी किसी के लिए बुरा या गलत नहीं कहा। फिर विराट कहता है की निनाद ने आज तक कभी अश्विनी का सम्मान नहीं किया, जिसके वजह से आज कोई भी अश्विनी का सम्मान नहीं करता।   

सई बोलती है की निनाद के दिल में प्यार है, क्यूंकि वह इस परिवार के सभी लोगो से प्यार करते है सिवाय अश्विनी के। अश्विनी कहती है की निनाद उसे भी पहले बहुत प्यार करते थे फिर एक दिन सब बदल गया, पता नहीं कैसे। 

अश्विनी कहती है की सिर्फ विराट की वजह से निनाद शादी की सालगिराह मनाने के लिए तैयार हुआ था। अगर निनाद का बस चले तो वो मेरे मरने पर मृत्यु की रस्में भी नहीं मनाएगा। अश्विनी की यह बात सुनते ही निनाद चौंक जाता है। 

निनाद कहता है की अश्विनी जब भी मुँह खोलती है, तो कुछ गलत बात ही करती है। इस पर सपना भड़क कर कहती है की अश्विनी के जीने या मरने से निनाद को क्या फर्क पढ़ता है। यह सुन कर निनाद थोड़ा सा भावुक हो जाता है। 

निनाद कहता है की 37 साले से वह दोनों साथ रह रहे है और उसने कभी अश्विनी के बिना - जीवन की कल्पना भी नहीं की है। 

निनाद का यह वाक्य यही बताता है की कहीं दिल के एक कोने में वो आज भी अश्विनी से बहुत प्यार करता है। 

निनाद की बात सुन कर सई कहती है की हमें किसी इंसान की कीमत तभी पता चलती है जब वो हमसे दूर हो जाते है। विराट कहता है की निनाद की ये बातें साबित करती है की वो अब भी अश्विनी को प्यार करते है। 

तभी ओंकार और सोनाली कहते है की अश्विनी को जहाँ जाना है वो जा सकती है। भवानी भी सपना से कह देती है की जाते जाते वो अपनी बेहेन को अपने साथ ले जा सकती है। भवानी की बातो से सपना ग़ुस्सा हो जाती है और अश्विनी को अपना सामान पैक कर के साथ चलने को कहती है। 

निनाद अश्विनी से पूछता है की वह सच में घर छोड़ कर जा रही है। सई कहती है की अगर आपको कुछ कहना हो तो कह दो इससे पहले की वो चली जाए। विराट उनको एक मिनट के लिए रुकने को कहता है। 

विराट दो डब्बे ले कर आता है, जिसमे से वो एक निनाद को और एक अश्विनी को देता है। डब्बा खोलते ही निनाद को अपनी चिट्ठी मिलती है जो उसने कई सालों पहले अश्विनी को लिखी थी जब वो फ़ौज में था। 

विराट निनाद को वो पत्र पढ़ने को कहता है, निनाद वो पत्र पढता है जो बहुत ही प्यारा होता है और इससे पता चलता है की निनाद अश्विनी से कितना प्यार करता है। निनाद के पत्र पढ़ते ही पूरा परिवार भावुक हो जाता है और खुश भी। 

तभी मानसी अश्विनी को भी अपना पत्र पढ़ने को कहती है जो उसने निनाद के पत्र के जवाब में लिखा था। अश्विनी भी अपना पत्र पढ़ती है और वो बहुत भावुक हो जाती है। पत्र पढ़ते ही दोनों अश्विनी और निनाद को पता चल जाता है की वो एक दूसरे से कितना प्यार करते है। 

लेकिन ज़िन्दगी की भाग दौड़ में और परिवार की ज़िम्मेदारी के वजह से वो यह भूल गए है की वह एक दूसरे से बहुत प्यार करते है और वो एक दूसरे से कब दूर हो गए यह उन्हें भी पता नहीं चला। 

निनाद - विराट और सई को उसका प्यार याद दिलाने के लिए धन्यवाद् करता है और वहीँ अश्विनी से आज तक दूर व्यव्हार करने के लिए सब के सामने अश्विनी से माफ़ी भी मांगता है - यह देख ओंकार और सोनाली दांग रह जाते है। 

एपिसोड समाप्त।

ऐसे ही रोमांचक अपडटेस के लिए बने रहें केवल rocknroll.in पर, तुरंत अपडेट पाने के लिए आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते है।

यह भी पढ़े:

Post a Comment

Previous Post Next Post